Start My Family Tree Welcome to Geni, home of the world's largest family tree.
Join Geni to explore your genealogy and family history in the World's Largest Family Tree.

Project Tags

Top Surnames

The split is a perfect, how much is this family tree? How much do you just say It is very fortunate that gives the news of the messages. Bee-combustion is very good, say Goa .. Your fan pen Munshi Jalala is beautiful. Say the result of your efforts. The memory is missing, how do you die now? Let the name live if you die. Put your name in the heart with fire. Tell me the condition of the house if you are in the month. I hope you have a date of your death. In the city, say the town or the zeba. 1897

अल रोहतगी भटनागर वंशावली

चशमे बद्दूर मुकूमल है यह शुजरा कितना ।

किस कदर कीजे सिफ़त किस कदर अच्छा कहिये ।।

खूब कासिद है कि पुश्तों की खबर देता है ।

बे-दहन को बहुत अच्छा है जो गोया कहिये ।।

आप का फजे कलम मुंशी ज्वाला सुंदर ।

आप की कोशिशे हासिल का नतीजा कहिये ।
कौम को याद हैं अब आप तो मरना कैसा ।।

नाम रह जाये मरने पे तो जीना कहिये ।

आप के नाम को आगोश में दिल के रखिये ।

आप को माह अगर कौम को हाला कहिये ।।

कह नसीब आप का यूं मिसरा तारीखे वाकात ।

हातिमे शहरो वतन या दरे जेबा कहिये ।। 1897

हमारे मूरसे आला (संस्थापक) राय उधरंसी दास सुलतान फिरोज़ शाह तुग़लक़ के समय में (1351 - 1391) क़स्बा भटनेर (जिसे अब हनुमान गढ़ कहते हैं) राजस्थान से आकर रोहतक में आबाद हुऐ । उनके एक पुत्र अहिंसी दास जी मुहल्ला खुर्द अर्थात मंडी ब्राह्मणान में आबाद हुए । दूसरे राय महंसी दास जी मुहल्ला कलां कायस्थान में आबाद हुए ।